Sunday, March 7, 2021

बलूच आंदोलन खत्म करना चाहता है चीन, 6 महीने के लिए दी बड़ी रकम: पाकिस्तानी आर्मी जनरल

इस्लामाबाद. एक चौंकाने वाले रहस्योद्घाटन में पाकिस्तान सेना के एक जनरल ने पाकिस्तान (Pakistan) में बलूच स्वतंत्रता आंदोलन को “कुचलने” में चीन (China) की भूमिका को स्वीकारा है. उन्होंने कहा कि बीजिंग ने उसे बलूच लोगों के स्वतंत्रता संघर्ष को समाप्त करने के लिए छह महीने का काम दिया है. बांग्लादेशी अखबार ‘द डेली सन’ ने उन्हें कहा कि चीन ने बलूच आंदोलन को कुचलने के लिए मुझे यहां तैनात किया है और मुझे छह महीने का काम दिया है. ईरान को पाकिस्तान का सबसे बड़ा दुश्मन बताते हुए पाकिस्तानी सेना के प्रमुख जनरल अयमान बिलाल ने कहा कि पाकिस्तान की सेना ईरान के अंदर जाएगी और उनके खिलाफ कार्रवाई करेगी.

उन्होंने कहा, “चीन ने मुझे वेतन और बड़ी राशि का भुगतान किया है और मुझे आधिकारिक तौर पर अपने क्षेत्रीय हितों के लिए और CPEC (चीन पाकिस्तान आर्थिक गलियारा) के खिलाफ ईरान की साजिशों को विफल करने के लिए यहां पोस्ट किया है, क्योंकि यह क्षेत्रीय हितों में एक तरह का निवेश है.” पिछले दिनों इस्लामाबाद द्वारा कई विकास परियोजनाओं के बावजूद बलूचिस्तान पाकिस्तान का सबसे गरीब और सबसे कम आबादी वाला प्रांत बना हुआ है. विद्रोही समूहों ने दशकों से प्रांत में एक अलगाववादी विद्रोह को भड़काया है. उनकी शिकायत है कि इस्लामाबाद और पंजाब प्रांत में केंद्र सरकार उनके संसाधनों का गलत तरीके से शोषण करती है. इस्लामाबाद ने 2005 में इस इलाकें में सैन्य अभियान शुरू किया था.

क्या है बीजिंग का उद्देश्य
2015 में, चीन ने पाकिस्तान में 46 बिलियन अमरेकी डॉलर के आर्थिक परियोजना की घोषणा की, जिसमें से बलूचिस्तान एक अभिन्न अंग है. चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे (CPEC) के साथ, बीजिंग का उद्देश्य अमेरिका और भारतीय प्रभाव का मुकाबला करने के लिए पाकिस्तान और मध्य और दक्षिण एशिया में अपने प्रभाव का विस्तार करना है. CPEC पाकिस्तान के दक्षिणी ग्वादर बंदरगाह (626 किलोमीटर, कराची से 389 मील पश्चिम) को अरब सागर में चीन के पश्चिमी शिनजियांग क्षेत्र से जोड़ता है. इसमें चीन और मध्य पूर्व के बीच संपर्क को बेहतर बनाने के लिए सड़क, रेल और तेल पाइपलाइन लिंक बनाने की योजना भी शामिल है.

‘CPEC की सफलता पाक-चीन के लिए बहुत महत्वपूर्ण’
बलूच अलगाववादी, आतंकवादी और राजनीतिक समूह, दोनों प्रांत में चीन की बढ़ती भागीदारी का विरोध करते हैं. पाकिस्तान में बलूच अलगाववादियों द्वारा किए गए घातक हमलों में एक उछाल ने चीन के महत्वाकांक्षी बेल्ट एंड रोड प्रोजेक्ट्स के जोखिम और लागत को बढ़ा दिया है. उन्होंने चीन के श्रमिकों और अधिकारियों पर कई हमले भी किए हैं. नवंबर 2018 में, बलूच अलगाववादियों ने पाकिस्तान के दक्षिणी कराची शहर में चीनी वाणिज्य दूतावास पर हमला किया. मेजर जेनरा अयमान बिलाल ने कहा कि बलूच आंदोलन की समाप्ति और CPEC की सफलता पाकिस्तान और चीन के लिए बहुत महत्वपूर्ण है. उन्होंने कहा, “हमारे पास इस कार्य के लिए अच्छी रकम है, इसलिए हमें बताएं कि आपको कितनी जरूरत है क्योंकि हम बलूचिस्तान में अशांति पैदा करने के लिए ईरान का इंतजार नहीं कर सकते. CPEC के खिलाफ विश्वास करते हैं और दोस्ती के नाम पर हमारे पेट में छुरा घोंपते हैं.”

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

21,618FansLike
0FollowersFollow
17,300SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles